थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )

Shayri, jokes, chutkale and much more...

251 Posts

80111 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 355 postid : 114

जिन्दगी ये किस मोड़ पे ले आयी है

Posted On: 17 Nov, 2010 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend


बीते कुछ दिन इतने व्यस्त रहे कि जागरण जंक्शन के मंच से जैसे अल्प विदाई ही हो गई. जैसे तैसे आज मौका मिला तो देखा कई पुराने दोस्त गायब थे. सचिन जी, अदिति कैलाश, सीमा जी, आशीष जी समेत कई लोग यहां से जा चुके हैं. अब हमने तो ब्लॉगिंग ही यहीं से शुरु की थी सो चल पड़े फिर से कुछ लिखने. हालांकि लिखते समय याद आया यार लिखने के लिए कोई टॉपिक तो है ही नहीं. अब भ्रष्टाचार, बलात्कार, चोरी-डकैती आदि पर लिख कर अपना समय बर्बाद करने से बेहतर है पाठकों तक कुछ हल्का और मजेदार पहुंचाऊं. तो यूं ही नेट पर पढ़ते पढ़ते मेरी नजर एक कविता पर गई जो आजकल के युवाओं पर एक बेहतरीन कटाक्ष थी सो सोचा आप लोगों तक इसे पहुंचाऊं.


Funny poemजिन्दगी ये किस मोड़ पे ले आयी है ,
हर लड़की का है Boy Friend, हर लड़के ने Girl Friend पायी है ,
चंद दिनों के है ये रिश्ते , फिर वही रुसवायी है .

घर जाना Home Sickness कहलाता है ,
पर Girl Friend से मिलने को टाइम रोज मिल जाता है .
दो दिन से नहीं पूछा मां की तबीयत का हाल ,
Girl Friend से पल-पल की खबर पायी है,
जिन्दगी ये किस मोड़ पे ले आयी है …..

कभी खुली हवा में घूमते थे ,
अब AC की आदत लगायी है .
धूप हमसे सहन नही होती ,
हर कोई देता यही दुहाई है .

मेहनत के काम हम करते नहीं,
इसीलिये Gym जाने की नौबत आयी है .
McDonalds, PizaaHut जाने लगे,
दाल- रोटी तो मुश्किल से खायी है .


Read: मैं जिससे प्यार करता हूं…


जिन्दगी ये किस मोड़ पे ले आयी है …..

Work Relation हमने बढ़ाई है,
पर दोस्तों की संख्या घटायी है .
Professional ने की है तरक्की ,
Social ने मुंह की खायी है.

जिन्दगी ये किस मोड़ पे ले आयी है
जिन्दगी ये किस मोड़ पे ले आयी है ,
हर लड़की का है Boy Friend,
हर लड़के ने Girl Friend पायी है ,


Read more:

नदी किनारे खड़ी थी एक लड़की

डार्लिंग आज बरसात हो रही है !

जब लल्लन प्यार में पड़ गया !!

| NEXT



Tags:                                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

757 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Maud के द्वारा
June 9, 2016

Hi Jeanine, I’m also going crazy to get thisone piece hair extension. I live in Toronto and going to New York is not an option.When will you be interviewing Kelly’s HarMsresdei.raybe Ryan her Hairdresser should start marketing the Wigston.I think he would be very successful.

rajkamal के द्वारा
November 17, 2010

प्रिय जैक भाई ..नमस्कार ! आप अगर कुछ दिन पहले आ जाते तो मैंने अपने जिस वयंग्य में आपका नाम लिख कर मिटा दिया था …तब शायद उसकी नोबत नहीं आती …क्योंकि शिमला तो आप का भी अच्छी तरह देखा हुआ है …. आप की गैर हाजरी में बहुत कुछ बदला है ….जोकि धीरे -२ पता भी चलेगा और महसूस भी होगा … एक बेहतरीन खुशनुमा झोंके के समान कविता से हमको परिचित करवाने के लिए धन्यावाद …. कभी अपने लेखो द्वारा तो कभी हलकी फुलकी टिप्पणियों द्वारा , कोशिश तो मै भी किसी हद तक करता हूँ लेकिन वोह हमेशा ही नाकाफी होती है ….

chaatak के द्वारा
November 17, 2010

जैक जी, भारी माहौल में आपक यह हलकी फुलकी प्रस्तुति बड़ी ही तरो-ताज़ा करने वाली रही| पुराने दोस्तों की याद आना लाज़मी है आप आ गए है संभव है कि उनका भी पुनरागमन हो| वैसे दोस्त हम भी बुरे नहीं| अच्छी प्रस्तुति पर बधाई !

priyasingh के द्वारा
November 17, 2010

मेट्रो संस्कृति में रची-बसी कविता …………..थोड़ी हलकी पर हटके नही ………..

Piyush Pant, Haldwani के द्वारा
November 17, 2010

रोचक लेख हार्दिक बधाई……………

    Lilian के द्वारा
    June 11, 2016

    I’m so glad I found my soiluton online.

Dharmesh Tiwari के द्वारा
November 17, 2010

नमस्ते जैक जी…………………काफी माडल और जिम्मेदारियों से भागे युवाओं को ललकारता प्रस्तुति,धन्यवाद!

आर.एन. शाही के द्वारा
November 17, 2010

अच्छा और ताज़ा-ताज़ा सा लगा जैक जी, सोर्स चाहे जो भी हो । उम्मीद है बने रहेंगे … बधाई ।

    आर.एन. शाही के द्वारा
    November 17, 2010

    और हां, पुराने दोस्तों के लिये क्या कहियेगा ? \’एक जाता है तो आता है जहां में दूसरा, उसकी महफ़िल का कभी खाली मकां होता नहीं\’ । यादें तो हैं ! साधुवाद ।

    Karson के द्वारा
    June 11, 2016

    Haha, men jag e ju så himla dålig på att cykla! E asnervös för både trafik och skogsrötter o st#Mer&a8230;;)nen om du tål att vara lite försiktig i början vågar jag kanske hänga med dig!

roshni के द्वारा
November 17, 2010

जैक जी अच्छी poem और पढ़कर अच्छा लगा….. हल्का फुल्का …

    Savion के द्वारा
    June 11, 2016

    I am not sure where you’re getting your information, but good topic. I needs to spend some time learning more or unartsednding more. Thanks for great info I was looking for this More Bad Tattoos | Bad Tattoo Art Gallery for my mission.


topic of the week



latest from jagran