Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )

Shayri, jokes, chutkale and much more...

251 Posts

813 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

हिन्दी शायरी – प्यार की मस्ती में

पोस्टेड ओन: 17 Feb, 2011 जनरल डब्बा में

heart_broken_in_two

जी ढूंढ़ता है घर कोई दोनों जहां से दूर
इस आपकी जमीं से अलग, आसमां से दूर

*********************

आती है किस तरह से मेरी कब्ज-ए-रूह को
देखूं तो मौत ढूंढ़ रही है बहाना क्या

*********************

pink-heart-love--

सरे महशर यही पूछूंगा खुदा से पहले
तूने रोका भी था मुजरिम को खता से पहले

*********************

न मेरे जख्म खिले हैं न तेरा रंग-ए-हिना
मौसम आए ही नहीं अब के गुलाबों वाले

*********************

ये शबे फिराक ये बेबसी, हैं कदम-कदम पे उदासियां
मेरा साथ कोई न दे सका, मेरी हसरतें हैं धुआं-धुआ

*********************

हमको तो गर्दिश-ए-हालात पे रोना आया
रोने वाले तुझे किस बात पे रोना आया

*********************

हर शम्आ बुझी रफ्ता रफ्ता हर ख्वाब लुटा धीरे – धीरे
शीशा न सही पत्थर भी न था दिल टूट गया धीरे – धीरे

*********************

अय मौत, उन्हें भुलाए जमाने गुजर गए
आजा कि जहर खाए जमाने गुजर गए



Tags:                                                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (22 votes, average: 3.32 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • Share this pageFacebook0Google+0Twitter0LinkedIn0
  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

iseujpzrhp के द्वारा
June 2, 2011

yv1Rp8 , [url=http://gqjhkoqbsmbz.com/]gqjhkoqbsmbz[/url], [link=http://dngrkzwffsxm.com/]dngrkzwffsxm[/link], http://skkmqgjuxwtm.com/

lveybksv के द्वारा
June 1, 2011

imZOY1 pwmgsterfwlu

Rock के द्वारा
June 1, 2011

Great thinking! That rlaley breaks the mold!

R K KHURANA के द्वारा
February 17, 2011

प्रिय जैक जी, ये शबे फिराक ये बेबसी, हैं कदम-कदम पे उदासियां मेरा साथ कोई न दे सका, मेरी हसरतें हैं धुआं-धुआ अच्छी कविता ! आर के खुराना




  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित