थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )

Shayri, jokes, chutkale and much more...

251 Posts

80112 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 355 postid : 402

21 मई 1991 का वह काला दिन

Posted On: 23 May, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend


21 मई 1991 का दिन हर उस भारतीय को विशेष रुप से याद होगा जो गांधी परिवार को काफी पसंद करता हो. 21 मई 1991 को युवा भारत के युवा नेता राजीव गांधी को मौत से रुबरु होना पड़ा. जिस शांति के लिए उन्होंने हाथ बढ़ाया था उसी शांति ने उनके प्राण छिन लिए.


पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या 21 मई 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में एक जनसभा के दौरान लिट्टे के एक आत्मघाती हमलावर ने की थी.


rajiv on work

20 अगस्त 1944 को जन्मे राजीव गांधी इंडियन एयरलाइंस में पायलट थे. अपने भाई संजय गांधी की मौत के बाद उन्होंने राजनीति में प्रवेश किया और 1981 में वह उत्तर प्रदेश के अमेठी संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा के लिए चुने गए.


31 अक्तूबर 1984 को सिख अंगरक्षकों द्वारा इंदिरा गांधी की हत्या के बाद देश की कमान उनके बेटे राजीव गांधी के हाथों में आ गई और इस पद पर वह दो दिसंबर 1989 तक रहे.



राजीव गांधी की छवि एक ईमानदार नेता की थी लेकिन 1987 के मध्य में सामने आए बोफोर्स कांड ने उनकी छवि को धूमिल कर दिया जिसका नतीजा यह हुआ कि 1989 के आम चुनाव में कांग्रेस को करारी हार का मुंह देखना पड़ा.



राजीव गांधी से पहले जो नेता प्रधानमंत्री बने, उनमें से राष्ट्रीय नेता के रूप में जवाहरलाल नेहरू की अदम्य प्रतिष्ठा थी, इंदिरा गांधी ने कभी हार न मानने वाली एक जुझारू नेता के रूप में धाक जमाई थी.



राजीव गांधी के कार्यकाल में श्रीलंका में तमिल विद्रोही संगठन लिट्टे ने खूनखराबा मचा रखा था. लिट्टे को खत्म करने के लिए राजीव ने श्रीलंका में भारतीय शांति सेना भेज दी जिससे लिट्टे प्रमुख प्रभाकरन खार खा गया.


शांति सेना भेजे जाने से खफा प्रभाकरन ने राजीव गांधी की हत्या की योजना बनाई जिसे उसकी महिला आत्मघाती हमलावर धनु ने अंजाम दिया. राजीव गांधी 21 मई 1991 को एक कांग्रेस प्रत्याशी के हक में प्रचार करने के लिए तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में थे जहां लिट्टे की महिला आत्मघाती हमलावर धनु अपने शरीर से 700 ग्राम आरडीएक्स बांधकर भीड़ में राजीव गांधी के पास जा पहुंची और उनके पैर छूने के बहाने झुककर शरीर पर बंधे विस्फोटक को उड़ा दिया.


| NEXT



Tags:                                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

771 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Belle के द्वारा
June 9, 2016

A simple and ineteliglnt point, well made. Thanks!

    Topher के द्वारा
    June 11, 2016

    All of these articles have saved me a lot of heeahcads.

Kristy के द्वारा
June 1, 2011

Never seen a beettr post! ICOCBW

    Charleigh के द्वारा
    June 10, 2016

    Whoa, whoa, get out the way with that good inraomotifn.


topic of the week



latest from jagran