थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )

Shayri, jokes, chutkale and much more...

251 Posts

80112 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 355 postid : 541

आखिर यह अन्ना की आग फैल कैसे रही है

Posted On: 20 Aug, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कल रात एक तो टीवी पर कोई अच्छी फिल्म आ नहीं रही थी, स्पोर्ट्स चैनलों पर भी कुछ खास नहीं था और दूसरी तरफ हमारे न्यूज चैनल अन्ना को लेकर बैठ गए थे जैसे अन्ना और लोकपाल इन्हें खाना देने आ रहे हों. ओह सॉरी, टीआरपी की भूख मिटा रहे होंगे न्यूज चैनल वाले. लेकिन एक बात देखकर बड़ी हैरानी हुई कि आखिर अन्ना को इतना समर्थन मिल कैसे रहा है.


02TH_CARTOON_COLOUR_647019fकुछ महीने पहले जंतर-मंतर पर मात्र पांच लोग भूख हड़ताल पर बैठे थे जिनकी तरफ देश की आवाम ने अपना हाथ बढ़ा दिया. और फिर शुरू हुआ असली खेल. मीडिया ने साथ दिया तो फेसबुक और अन्य सोशल नेटवर्किंग साइटों पर भी तथाकथित जागरुक भारत ने अपनी जागरुकता दिखाई. आनन-फानन में कांग्रेस ने भी लोकपाल बनाने के लिए कमेटी बैठा दी.


अब सरकार झुक गई तो बाबा रामदेव ने सोचा कि मैं भी दूसरा अन्ना हजारे बन जाता हूं और छेड़ दिया काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ अपना मोर्चा. बेचारे भूल गए कि जिनके घर कांच के होते हैं उन्हें दूसरों के घरों पर पत्थर नहीं मारने चाहिए. सरकार और मीडिया ने थोड़ी हवा क्या दे दी बाबा रामदेव चढ़ गए रामलीला मैदान के मंच पर. सरकार ने भी सोचा कि क्या बार बार का ड्रामा है, पहले अन्ना और अब यह, इसलिए पहले तो एयरपोर्ट पर अपने तीन रणबांकुरों को भेजा कि समझा दो बाबा को वरना….बात एयरपोर्ट पर नहीं बनी तो होटल के बंद कमरे में हुई एक डील. डील के मुताबिक सब कुछ पूर्व नियोजित किया गया. बाबा रामदेव की दो-चार मांगें मान कर सरकार ने उन्हें बाहर जाने के लिए कहा. पर बाबा रामदेव को अपनी राजनीति चमकानी थी सो बैठ गए मंच पर. अब रात के बारह बजे ना जानें हमारी सभ्य दिल्ली पुलिस, जिसे आराम करना बेहद पसंद है, उसे डंडा लेने की क्या पड़ी या किसने डंडा कर दिया कि रात को ही भरे हुए रामलील मैदान पर आंसू गैस और डंडों से लोगों को भगाना शुरू कर दिया. और तो और बाबा रामदेव की तो ऐसी हालत कर दी कि बेचारे को सूट-सलवार पहनना पड़ा. खैर यह तो बात थी बाबा रामदेव की.


78fe34f3944e65db736bb6d3eb8a52c0_1313647951भारत में दो चीजें बात-बात पर मिल जाती हैं और वह हैं सलाह और सरकार की तरफ से कमेटी की घोषणा. सरकार के पास कमेटियां तो थोक के भाव पड़ी हैं जब जरूरत होती है निकाल लेती है और रामबाण की तरह इस्तेमाल कर लेती है. यहां भी वही हश्र हुआ जो देश की अधिकतर कमेटियों का हुआ. कमेटी ने अन्ना को साइड में किया और जैसा खुद को भाया वैसा ही लोकपाल बना कर संसद में ला खड़ा किया.


080611satishसरकार को लगा कि अन्ना गन्ना खाने में मस्त रहेंगे पर ऐसा हुआ नहीं और अन्ना ने आवाज लगाई कि 16 अगस्त को आजादी के दूसरे दिन से ही दूसरी आजादी के लिए तैयार हो जाओ और लोग चले पड़े जेपी पार्क की तरफ. कांग्रेस ने भी शुरू-शुरू में सोचा कि जैसे रामदेव को दो डण्डे मार कर रामलीला मैदान से सटका दिया था कि वह अभी तक दिल्ली में आने से डर रहे हैं वैसे ही अन्ना को भी घर से उठा लेते हैं दो मिनट में सब शांत हो जाएगा. लेकिन यहां तो दांव ही उलटा पड़ा गया. अन्ना ने जेल में ही अनशन को चालू कर दिया. अब बोलो जिस जगह उन्हें पकड़ कर लाया गया था वहीं चालू हो गए अन्ना.


मात्र 21 घंटे में ही कांग्रेस के आलाकमान और गुरु घंटाल मुख्यत: प्रणव मुखर्जी और सिब्बल को समझ आ गया कि ज्यादा हो हल्ला किया और डण्डा किया तो दांव इतना उलटा पडेगा कि बोरिया-बिस्तर बांध कर जाना पड़ेगा सो दे दिए अन्ना की रिहाई के ऑर्डर. पर अन्ना ने बात फिर भी नहीं मानी. अब बात लोकपाल बिल की नहीं बल्कि इस बात की हो गई कि क्या देश में अनशन करना और विरोध करना गैर-कानूनी है? लोगों में सहानुभूति की ऐसी लहर दौड़ी की कल तक जो सरकार अन्ना के खिलाफ बल इस्तेमाल करना चाहती थी वह उनकी सभी मांगें मानने को तैयार है और कह रही है कि यह देश अन्ना का वह जो करना चाहें करें और गेंद डाल दी दिल्ली पुलिस के पाले में.


अब देखते हैं यह हाई वोल्टेज ड्रामा किस तरफ जाता है या हमेशा की तरह भुलक्कड़ भारतीय जनता इसे आसानी से भूल जाती है.


वैसे मैं अन्ना हजारे का समर्थन करता हूं पर इस बात पर भी जोर देता हूं कि भ्रष्टाचार कम करने या दूर करने में लोकपाल किसी काम का नहीं है. हमारे यहां पहले ही तीन-तीन शाखाएं शासन-प्रणाली को सुचारु रुप से चलाने के लिए बनाई गई हैं और ऊपर से एक और को उन सब के ऊपर रखना कहां तक सही है.




Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

278 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Keylon के द्वारा
June 11, 2016

Areclits like this are an example of quick, helpful answers.

Suraj Agrawal के द्वारा
August 23, 2011

अन्ना जी ने भ्रस्टाचार के खिलाफ ये जन आन्दोलन किसलिए छेड़ा है ? ताकि हमारी आने वाली पीढ़ी ,जिनके भविष्य को सवारने के लिए हम सभी दिन रात कर्यरत रहते है , उनके लिए ताकि वे आने वाले समय में खुली हवा में स्वाश ले सके, आज स्तिथि ये तो हो चुकी है कि भ्रस्टाचार हम सभी को गले तक निगल चुकी है और यदि ये जन लोकपाल बिल पारित नहीं हुआ तो यह निश्चित है कि हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए जिंदगी जी पाना बेहद दुष्कर हो जायेगा और यदि जन लोकपाल बिल लागू हो जाता है तब हम पूरी तरह से न सही परन्तु गले तक आ चुके पानी हमारी कमर के निचे चला जायेगा जिससे हमारे लिए और हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए जिंदगी जीना असं हो जायेगा . जय हिंद

rajkamal के द्वारा
August 20, 2011

प्रिय जैक भाई …..आदाब । शायद आज पहली बार आपके निजी विचार पढ़ने का सोभाग्य मिला है ….. सच में ही आपने कमाल का लिखा है अंदर की बातो सहित ….. बधाई


topic of the week



latest from jagran