थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )

Shayri, jokes, chutkale and much more...

251 Posts

80112 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 355 postid : 869

रहीम के दोहे अर्थ सहित: rahim ke Dohe with meaning:

Posted On: 4 Jul, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

New RAHIM KE DOHE WITH HINDI MEANING


Rahim ke Dohe with meaning

तरुवर फल नहिं खात है, सरवर पियहि न पान।

कहि रहीम पर काज हित, संपति संचहि सुजान।।1॥

अर्थ: कविवर रहीम कहते हैं कि जिसत तर पेड़ कभी स्वयं अपने फल नहीं खाते और तालाब कभी अपना पानी नहीं पीते उसी तरह सज्जनलोग दूसरे के हित के लिये संपत्ति का संचय करते हैं।


Rahim ke Dohe with meaning

तन रहीम है कर्म बस, मन राखो ओहि ओर।

जल में उल्टी नाव ज्यों, खैंचत गुन के जोर।।2॥

अर्थ: कविवर रहीम कहते हैं कि अपना शरीर तो कर्म के फल के नियंत्रण में है पर मन को भगवान की भक्ति में लीन रखा जा सकता है। जैसे जल में उल्टी नाव को रस्सी से खींचा जाता है वैसे ही मन को भी खींचना चाहिए।


Rahim ke Dohe with meaning

अनुचित वचन न मानिए, जदपि गुराइस गाढ़ि।

है ‘रहीम’ रघुनाथ तें, सुजस भरत को बाढ़ि।।3॥

अर्थ: ‘‘कितना भी बड़ा आदमी क्यों न हों उसकी गलत बात नहीं मानिए भले ही वह कितनी भी महत्वपूर्ण क्यों न हो। भगवान श्री राम ने अपने पिता की बात मानते हुए वनगमन किया पर फिर भी उनसे अधिक यश उस भरत को प्राप्त हुआ जिन्होंने मां की आज्ञा ठुकराकर राज्य त्याग दिया।’’


‘‘अब ‘रहीम’ मुश्किल बढ़ी, गाढ़े दोऊ काम।

सांचे से तो जग नहीं, झूठे मिलें न राम।।4॥

अर्थ: ‘‘दुनियां में दो महत्वपूर्ण काम एकसाथ करना अत्यंत कठिन है। सच का साथ लो तो जग नहीं मिलता और झूठ बोलो तो परमात्मा से साक्षात्कार नहीं हो पाता।“


Rahim ke Dohe, Rahim Ke Dohe with hindi meaning, rahim ke dohe with hindi meanings, Rahim ke Dohe with meaning, रहीम के दोहे



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (134 votes, average: 4.21 out of 5)
Loading ... Loading ...

295 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

nisha के द्वारा
October 9, 2013

its nice but it would be more better if u could add more dohe…………….

Archana के द्वारा
January 8, 2013

Thankyou for this great stuff.. really helps students like us a lot in our projects and gives us a chance to know the thinking and ideas of our great poets .. Thanking you once again!

    jack के द्वारा
    January 11, 2013

    थैंक्यू अर्चना जी. आपको तयह रहीम के दोहे अच्छे लगे इसके लिए मुझे खुशी है. आगे भी आप इसी तरह आते रहिए… http://jack.jagranjunction.com/

sana के द्वारा
November 28, 2012

i want some dohe of Surdas and Meerabai with meaning ! thank you in advance

supriya के द्वारा
November 17, 2012

रूठे सुजन मनाइये जो रूठे सौ बार। रहिमन फिर फिर पोइये टूटे मुक्ताहार…i want to know the meaning of this doha

    jack के द्वारा
    November 28, 2012

    सुप्रिया जी आपके कमेंट के लिए धन्यवाद.. इस दोहे का शाब्दिक अर्थ तो नहीं जानता लेकिन इसका भावार्थ जरोर जनता हूं कि हमें रुठे हुए प्रेमी या अपने जीवन साथी को अगर सौ बार भी मनाना पड़े तो मना लेना चाहिए.. ऐसा करके ही हमें मुक्ति मिल सकती है. यह दोहा आज के टूटते पारिवारिक रिश्तों के लिए बहुत ही मधुर है.. देरी से जवाब देने के लिए क्षमा.. नए दोहे भी पढे यहां http://jack.jagranjunction.com/2012/11/28/kabir-ke-dohe-in-hindi-with-meaning/

jack wilson के द्वारा
August 5, 2012

क्या बात हे?आज तो मुझे मज़ा आ गया.न जाने ऐसा दिन दोबारा dekhne को कब मिलेगा .

AJAY KAPOOR के द्वारा
July 21, 2012

really good efforts. Need more compilation. All the best.

fgdtdydytd के द्वारा
July 9, 2012

िरििपिरपिरपिपिपििरपिुरुरकपुकरपरपकपकतरप


topic of the week



latest from jagran