थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )

Shayri, jokes, chutkale and much more...

251 Posts

80095 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Hindi Love Kavita - प्यार में दोस्ती: प्रेम कविता

Posted On: 10 Jan, 2013 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Hindi Love Kavita

वोह जमाना कुछ और था..
तेरा मेरा रिश्ता पुराना कुछ और था..
होमेवोर्क के बहाने ,
तुजसे मिलने का बहाना कुछ और था.


रिसेस में पराठो का चुपके से खिलाना
वोह मासूम याराना कुछ और था..
प्यार में दोस्ती. दोस्ती में प्यार..
लब्जो का वोह तराना कुछ और था..


एक अरसे बाद निकला था तेरी गली से
जो रोशन हुआ करती थी तेरी हसी से
कदम बस ठहर से गये
साँसे दो पल को जैसे थम सी गयी
फिर दिल को ये गुमान आया
वोह किस्सा पुराना कुछ और था


तेरा मेरा रिश्ता पुराना कुछ और था
वोह जमाना कुछ और था..वोह जमाना कुछ और था..


Hindi Love Kavita, Love Poem in Hindi, Love Poem in Hindi Font, Love Poem in Hindi, Prem ki Kavita, Love Story in Hindi Font, Free Love Story in Hindi Font, Free Love Poem in Hindi Font, प्रेम कविता, हिन्दी प्रेम कविता, हिन्दी में प्रेम कविताएं



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 3.86 out of 5)
Loading ... Loading ...

309 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Augustina के द्वारा
June 11, 2016

Alazakaam-information found, problem solved, thanks!




latest from jagran