थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )

Shayri, jokes, chutkale and much more...

248 Posts

79662 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 355 postid : 585282

एक गलती सभी लड़के करते हैं !!

Posted On: 23 Aug, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

लड़को की सबसे बड़ी गलती यही होती है कि वह पहली ही मुलाकात में सोचने लगने लगते हैं कि लड़कियां उनकी दोस्त नहीं गर्लफ्रैंड बनें। यह बात उन्हें निराश करती है कि उनसे जितनी भी लड़कियां मिलती हैं वउन्हें दोस्त ही क्यों बनाना चाहती हैं।


ऐसे लड़कों को अपनी सोच में बदलाव लाना चाहिए, ताकि हर लड़की आपकसाकी ख्वाहिश रखे। आइए कुछ ऐसी ही बातों पर आपका ध्यान दिलाते हैं, जिससे आप कन्या के दिल में जगह बना सकें-


ज्यादा भावुक न हों-

अक्सर यह देखा जाता है कि पुरुष प्यार में ज्यादा भावुक हो जाते हैं। ऐसा करने से बचें। ऐसा न हो कि आप अपनी भावुकता में अपने दिल की बात कह ही न सकें। कोई और उसकी जिंदगी में आ जाए। इसलिए जो भी मन की बात हो उसे स्पष्ट रूप से कहें। आप क्या चाहते हैं, आपकी अपने साथी से क्या अपेक्षाएं हैं सारी बातें दिल खोलकर करें। हो सकता है वह बहुत खुश होगी या फिर बहुत ही नाराज।


अपना निर्णय भी दें-

लड़कियों को हमेशा ऐसे लड़के पसंद आते हैं, जो अपना निर्णय ले सकें और उसपर कायम रहें। अगर वह आपसे पूछे कि आज हमें कहां चलना चाहिए, तो अनमना-सा जवाब न दें कि आपको नहीं पता। आपका यह व्यवहार यह दर्शाता है कि आपमें निर्णय लेने की क्षमता नहीं है और लड़कियों को ऐसे पुरुष कभी पसंद नहीं आते हैं।


अवसादग्रस्त न रहें-

यह संभव नहीं कि इंसान हमेशा खुश रहे, लेकिन हमेशा अवसाद से घिरे न रहें। कोई भी लड़की यह नहीं चाहेगी कि उसका साथी हमेशा परेशान और थका-हारा सा रहे। वह चाहती है कि उसका पुरुष साथी अपने लक्ष्य के प्रति सजग और आत्मविश्वासी हो।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (22 votes, average: 3.23 out of 5)
Loading ... Loading ...

144 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Madan Mohan saxena के द्वारा
August 27, 2013

सार्थक कभी यहाँ भी पधारें

    Ireland के द्वारा
    June 9, 2016

    va bene, daniele. Ne prendo atto. Il gap non si riduce mai. Mi chiedo, però, se Fabrizio si vede come tu vedi gli uomini della sua geazeneionr, però – “game over”, cioè.


topic of the week



latest from jagran