थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )

Shayri, jokes, chutkale and much more...

248 Posts

79662 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 355 postid : 607295

Relationship Mantra: रिश्तों को समय के साथ टूटने से बचाएं

  • SocialTwist Tell-a-Friend

शादी में दो मन एक साथ बड़े अरमानों से जुड़ते हैं। लेकिन साल भर होते-होते रिश्तों का सौंधापन ना जाने कहां चला जाता है और तकनीकी रूप से दो लोग साथ होते हुए भी साथ नहीं होते। एक लड़की को नए घर के माहौल के हिसाब से ढलने में समय लगता है लेकिन लड़के की भारी भरकम अपेक्षाओं के बोझ तले वह मुरझा जाती है।


बाहरी तौर पर भले ही वह मुस्कुराती नजर आए पर भीतर ही भीतर बहुत कुछ दरकता है। यही स्थिति कमोबेश लड़कों के साथ भी होती है। लेकिन यहां हम लड़कों की तरफ से होनी वाली मामूली सी नादानियों का जिक्र करेंगे ताकि समय पर कुछ रिश्ते संभल जाए।


अक्सर शादी के बाद लड़के अपने परिवार को पत्नी के सामने अतिरिक्त तवज्जो देने लगते हैं। वास्तव में लड़कों की स्थिति बड़ी अजीब हो जाती है। जिस परिवार के साथ वह इतने सालों तक रहा अचानक उसे उनका समय चुरा कर अपनी पत्नी को देना होता है। इसलिए वह अपने परिवार की भावनाओं को समझने की जल्दबाजी में पत्नी की भावना को नहीं समझता।


जहां परिवार वाले समझदार हैं और पति-पत्नी के एकां‍त का महत्व समझते हैं वहां यह समस्या इतनी खड़ी नहीं होती क्योंकि दो दिलों को अपने लिए पर्याप्त समय मिल रहा है। लेकिन जहां परिवार वाले भी नई दुल्हन के आने से असुरक्षा की भावना से ग्रस्त हैं वहां वे प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से अपना हस्तक्षेप बढ़ाने से बाज नहीं आते। और इस करेले पर नीम पति की तरफ से चढ़ाया जाता है।


लड़कों में कुछ बातों को समझने की व्यावहारिकता थोड़ी कम होती है नतीजतन वे अपनी बीवी को ही दोषी मानने लग जाते हैं कि उसे परिवार रास नहीं आ रहा। लड़कों को चाहिए कि वह अपनी नई नवेली पत्नी को धीरे-धीरे रिश्तेदारों के बारे में बताए और उसे कभी भी यह महसूस न होने दें कि परिवार हमेशा ही सही है और वह गलत।


पति बनने के साथ ही आपमें यह बड़प्पन आना चाहिए कि अब आप पर दो लोगों का दायित्व है न कि आप स्वयं भी पत्नी से परिवार के अलावा आपके साथ भी जल्दी से जल्दी एडजस्ट होने की उम्मीद लेकर बैठ जाए। यहां रिश्तों की सबसे पहली दरार पड़ती है इसे पाटना सिर्फ और सिर्फ पति के हाथ में होता है।


याद रखिए पत्नी को आपका परिवार बुरा नहीं लग रहा है बल्कि आपका 24 घंटे मेरा परिवार-मेरा परिवार का जाप बुरा लग रहा है। इस जाप पर कंट्रोल भी आपको ही करना होगा। पत्नी को अभी प्यार और विश्वास की सख्त जरूरत है। यही वक्त है उसका दिल जीतने का। बाद में तो जीवन भर उसे आपके परिवार के साथ ही रहना मगर पहले साल में उसे अपना बनाना, अपने अनुकूल बनाना आपकी जिम्मेदारी है।



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

294 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Terry के द्वारा
June 11, 2016

Ben de psn de sorun yaşıyorum, TYPE 3 çıkıyor.avea cep ten ba±„nŸlaÂÄÂÃyorum,Sorunsuz bağlantı için, yani TYPE1 ya da en azından TYPE 2 için, primary-secondary DNS leri ne yapmam lazım?


topic of the week



latest from jagran